सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

बरसात की रात



बरसात की एक रात

बारिश.....मुझे हमेशा से बारिश से थोड़ी सी नाराजगी रही है और क्यूँ न हो इसने कितनी बार मुझे जरूरी कामों के लिए देरी कराई है, कितनी बार मेरे बाहर जाने के प्लान को चौपट किया है, मेरे जीवन में इसकी अहम भूमिका रही है। मैंने सोचा नहीं था कि अचानक ये बारिश कुछ ऐसा कर देगी कि मेरी नाराज़गी एक दिन इसी में धूल जाएगी। बात 2 साल पहले की है जब मैं भोपाल से दिल्ली आ रही थी रात का सफर और ट्रेन में आरक्षण (reservation) न हो तो परेशानी तो होती ही है। मेरा जाना अगर जरूरी नहीं होता तो शायद कभी न जाती ऐसे; लेकिन क्या करें बॉस ने बहुत जरूरी काम के सिलसिले में  छुट्टी खत्म होने के एक हफ्ते पहले ही बुला लिया था वो भी अचानक। खैर छोड़ो मैं घर से बहुत सारी हिदायतों की गठरी साथ बाँध कर निकल ही रही थी कि अचानक मेरी बहन तान्या ने बताया कि "दीदी आपका जाना आज मुश्किल लग रहा है मौसम खराब हो रहा है, बादल गरज रहे हैं बिजली चमक रही है ऐसे में बहुत परेशानी होगी जाने में। उसकी बात सुनकर मैंने एक बार ऊपर की ओर देखा फिर अपने फ़ोन की ओर, और मुझे याद आया कि रिया तेरा आज जाना बहुत जरूरी है अगर नहीं गई तो बॉस को क्या जवाब देगी। मैं नहीं चाहती थी कि मुझे मिले किसी काम के लिए मुझे अंत समय पर मना करना पड़े तो बस ये ही सोचते सोचते मैं घर से निकल गई।
स्टेशन पर पहुँच कर टीसी से बहुत मनुहार की कि वो मेरी टिकट बना दे और सीट दे दे किंतु उसका हर बार एक ही जवाब कि मैडम सीट होती तो आपको अब तक मिल जाती। मेरे बहुत विनती करने पर उसने मेरी टिकट बना दी जिससे मैं ट्रेन में चढ़ सकती थी लेकिन सीट देने का उसने कोई वादा नहीं किया। मैं अपना छोटा सा बैग लेकर डिब्बे में चढ़ गई, और देखने लगी कि कहीं कोई सीट खाली हो तो बैठ सकूँ उसपर। बिजली जोर से चमक रही थी ऐसा लगा जैसे बारिश की कुछ बूँदें बिना टिकट के डिब्बे में चढ़ रही हों। एक डिब्बा छोड़कर दूसरे डिब्बे में मुझे भाग्य से एक सीट मिल गई, मेरी पसंदीदा सीट (साइड लोवर) मेरी जगह अगर आप होते तो शायद आपके चेहरे पर खुशी से एक मुस्कुराहट जरूर आती, सच बताऊँ तो मेरे भी वो वाली मुस्कुराहट आ ही जाती अगर वो कुछ बूँदें मेरी सीट पर न गिरी होतीं। मुझे नहीं पता था कि आज बारिश किसी और इरादे से आई है, वो शायद मेरी नाराज़गी खत्म करने आई थी, मेरी तरफ दोस्ती का हाथ बढ़ाने आई थी।
मैंने अपने रूमाल से सीट को पोंछा और उसपर बैठ गई ट्रेन भोपाल से निकल चुकी थी मैं मन ही मन बस प्रार्थना किये जा रही थी कि जिस भी भले मानस की ये जगह हो वो न आए। रात का सफर था तो कुछ देर बाद ही मुझे हल्की सी नींद ने घेर लिया।
"मैडम आपका दुपट्टा....ओ मैडम आपका दुपट्टा... संभालें इसे" एक महिला मुझे थोड़ा हिलाते हुए बोल रही थी देखा तो इतने में एक अजनबी ने मेरा दुपट्टा उठाकर सीट पर रख दिया। उस महिला को अपना सामान खींचते हुए शायद दरवाज़े की तरफ जाना था जिसमें मेरा दुपट्टा नीचे गिरकर उनका रास्ता रोक रहा था। मैंने उस अजनबी को देखा जो कि देख चुका था कि मैंने उसे दुपट्टा उठाते हुए देख लिया है तो उसने उस महिला की तरफ आँखों से इशारा किया। मैं समझ गई कि ये मेरे दुपट्टे उठाने की सफाई दी रहा है। बारिश धीरे-धीरे तेज़ होने लगी मैं खिड़की बंद करने को उठी तो वो अजनबी मेरी मदद के लिए मुझसे पहले उठ गया और मेरी खिड़की बंद कर दी। मैं धन्यवाद देते हुए बैठ गई।
वो मेरी ही सीट (मुझे जो मिली) पर मेरे सामने बैठा हुआ था, मेरा मन हुआ कि पूछूँ उससे वो यहाँ क्यों बैठा है? क्या ये उसकी सीट है या वो भी मेरी तरह मन में प्रार्थना करके बैठा है कि किसी तरह बैठने की जगह मिल जाए और ये सफर कट जाए। मैं उससे पूछूँ या न पूछूँ इसी उधेड़बुन में नज़रें चुराकर उसे बीच बीच में देख रही थी। वो भी शायद समझ गया था कि मैं कुछ कहना चाहती हूँ उसे। उसे ऐसे चोरी से देखते-देखते फिर मुझे हल्की सी नींद आ गई। "एक्सक्यूज मी! टिकट दिखाइए" टीसी की जब ये आवाज़ मेरे कानों में पड़ी तो मैं आँख खोलकर उसे पूरी कहानी बताने ही वाली थी कि इतने में उस अजनबी को मैंने कहते सुना- " देखिए ये मेरे साथ हैं, वो दरअसल इनका साथ चलने का प्रोगाम अचानक से बना तो सीट नहीं मिल पाई। टीसी ने उसकी बात सुनी और कहा "ठीक है लेकिन डिब्बे में चढ़ने से पहले कोई टिकट बनवा लेते" । ये सुन मुझे लगा कि इससे पहले कि ये कुछ बोले मुझे टिकट दिखा देनी चाहिए । मैंने आँखें खोलकर बड़ी सहजता से टीसी को अपनी टिकट दिखा दी।
टीसी जा चुका था और मेरी नींद भी शायद अपने साथ ले गया। मैंने सोचा नहीं था कि इस तरह के भी लोग होते हैं जो बिना किसी वजह के बिना जाने-पहचाने किसी की बिना माँगे मदद करते हैं। मैं उसे देख ही रही थी कि इतने में उसने मेरी तरफ हाथ बढ़ाते हुए कहा- हैलो! मेरा नाम आकाश है। मैंने हल्की मुस्कुराहट के साथ उससे हाथ मिलाया और अपना परिचय दिया "हैलो मैं रिया!" मैंने महसूस किया कि एक अलग ही चमक थी उसकी आँखों में। आगे वो कहने लगा "सॉरी वो आप सो रही थीं तो मैंने सोचा टीसी से मैं ही बात कर लेता हूँ।" मैंने उसे धन्यवाद दिया और बताने लगी कि कैसे  सच में मेरा आखिरी वक्त पर जाने का प्लान बना और मुझे निकलना पड़ा। धीरे-धीरे हमारी बातें बढ़ने लगीं उसने अपने बारे में बहुत कुछ बताया और मैंने भी थोड़ा बहुत उसे अपने बारे में बताया। बारिश बहुत तेज़ होने लगी रात के ग्यारह बज गए पर हम दोनों बातों में इतने मशगूल थे कि न ही समय की तरफ ध्यान जा रहा था और न इस बात पर कि कैसे हम इतनी जल्दी अजनबी से दोस्त बन रहे थे। उसने मुझे बताया कि उसे बारिश कितनी पसंद है। "रिया मैं आपको बताऊँ अगर किसी को कोई परेशानी न हो तो मैं ये दोनों खिड़कियाँ खोल दूँ और एक अच्छी सी गरम-गरम चाय पिऊँ। ज़ोर ज़ोर से गाना गाऊँ।" मैं उसकी बात सुनकर हंसने लगी। मैंने महसूस नहीं किया कि जिस बारिश का जिक्र सुनकर मेरा दिमाग खराब हो जाता है मैं आज उसी के बारे में इतना खुश होकर बात कर रही हूँ...या यूँ कहूँ कि बात सुन रही हूँ। आकाश बोले जा रहा था और मैं सुने जा रही थी उसकी बातें सुनते हुए लगा कि सच बारिश इतनी बुरी चीज नहीं रिया, जितनी तुम समझती हो। कुछ देर बाद बीच में कहीं ट्रेन रुक गई न कोई स्टेशन न कुछ खास रोशनी। सच कहूँ तो आकाश नहीं होता तो सच ये सफर बहुत बुरा होता...मैं बहुत ज्यादा डरती और भगवान से बस प्रार्थना करती जल्दी ट्रेन चलने लगे। पर आकाश के साथ बात करते हुए ट्रेन का वो रुकना बुरा नहीं लगा...बारिश थोड़ी मद्धम हो चुकी थी आकाश ने मुझसे पूछकर दोनों खिड़कियाँ खोल दीं। अब हल्की हल्की बारिश की बौछारें और दिल तक सुकून पहुँचाने वाले हवा के झोंकों के बीच हम दोनों एक दूसरे के दिल तक का रास्ता बना रहे थे। ट्रेन में ज्यादा रोशनी नहीं थी तो हम एक दूसरे को इतना साफ नहीं देख सकते थे पर उसकी आँखों की चमक मुझे साफ दिख रही थी।
कुछ देर बाद एक चाय वाला आया और शायद उसने आकाश का रोकना सुना नहीं और चला गया। आकाश उसके पीछे-पीछे गया। आकाश जैसे ही उठा उसकी सीट पर मुझे एक डायरी दिखी मेरे मन के मना करने के बाद भी मैंने वो उठा ली और अपने फोन की फ़्लैश लाइट में एक पेज खोला- बहुत ही सुंदर अक्षरों में एक नज़्म लिखी हुई थी- जिसका शीर्षक था
'बरसात की रात'
"कुछ अँधेरे में, एक सफर पर
बारिश की बौछारों के बीच
मैं भीग जाऊँ तेरे अहसास में
और आ जाऊँ तेरे पास में....."

मैंने पूरी नज़्म पढ़े बिना ही अचानक डायरी बंद कर दी। दिल थोड़ा तेज़ धड़कने लगा ऐसा लगा मानो आकाश ने इसी सफर को लिखा हो अपनी नज़्म में...मैं न चाहते हुए भी आकाश के बारे में सोचे जा रही थी। इतने में आकाश 2 कप गरम-गरम चाय ले आया। उसने अपनी डायरी देखी और वहीं साइड में रखते हुए बैठ गया। रात का एक बज गया। बारिश थोड़ी तेज़ होने लगी आकाश खिड़की बंद करने को उठने लगा तो मैंने कहा-" रहने दो कुछ देर ऐसे ही बैठते हैं" मैं सोचने लगी कि ये क्या हुआ मुझे, मैं बारिश पसंद कर रही हूँ या आकाश मुझे कुछ-कुछ पसंद आ रहा है। चाय पीते पीते हम दोनों ही बारिश का लुत्फ लेने लगे। आकाश ने पूछा "रिया क्या तुम नज़्म, शायरी या कविताओं में दिलचस्पी रखती हो?" मेरे हाँ कहने पर उसके चेहरे पर एक मुस्कुराहट चहकने लगी। उसने कहा चलो फिर मैं तुम्हें अपनी एक नज़्म सुनता हूँ, सुनोगी? मैंने कहा जरूर... जरूर, हम भी तो देखें जनाब कितना उम्दा लिखते हैं। मेरा दिल चाह रहा था कि कहूँ उसे कि आकाश मुझे वही नज़्म सुनाओ न वो 'बरसात की रात' पर न कह सकी। आकाश ने अपनी डायरी खोली और वही पेज खुला जिसपर वही नज़्म थी जो मैं सुनना चाह रही थी। आकाश ने सुनाना शुरू किया- "बरसात की........" इतना कहकर ही वो कुछ सोच कर चुप हो गया और कुछ दूसरी नज़्म सुनाने लगा। पर मेरा दिल तो बस उसी नज़्म पर ठहरा हुआ था। बातें करते करते हमें बैठे-बैठे कब नींद आ गई कब ट्रेन चल दी मुझे पता नहीं चला। सुबह नींद खुली तो देखा आकाश अपने बैग को देखा रहा था मेरे पूछने पर उसने मुझे बताया कि उसका स्टेशन आने वाला है मेरा मन हुआ कि कह दूँ उसे कि मत जाओ आकाश। मुझे अभी बारिश से और प्यार करना है, मैं तुम्हारे साथ एक और ऐसी ही 'बरसात की रात' बात करते हुए आँखों में निकालना चाहती हूँ, मन किया कि कहुँ बैठो न मुझे तुमसे तुम्हारी और नज़्म सुननी है खास कर वो 'बरसात की रात' पर दिल की बात दिल में रह गई और आकाश का स्टेशन आ गया और वो चला गया। कुछ देर बाद मेरा स्टेशन (दिल्ली) भी आने ही वाला था। आकाश के जाने के बाद मैंने देखा कि उसकी सीट पर एक कागज रखा हुआ है मुड़ा हुआ। मैंने खोला उस पर ऊपर ही ऊपर लिखा था-
'बरसात की रात' हाँ वो वही पेज था, वही नज़्म वाला पेज, वही नज़्म और नीचे लिखा था "रिया ये तुम्हारे लिए। मैंने ये नज़्म कुछ दिन पहले ही लिखी थी मुझे नहीं पता था कि इतनी जल्दी ये नज़्म हकीकत बन मेरे सामने आ जाएगी। रिया तुम्हारे साथ ये सफर कैसे गुजरा पता ही नहीं चला। मुझे खुशी है कि अब शायद ये बारिश तुम्हारी भी दोस्त बन गई होगी। रिया मुझे नहीं पता कि ऐसा क्या हुआ इस सफर में, क्या हुआ इस बरसात की रात में पर इतना जरूर कहूँगा कि मैं ऐसे सफर का फिर इंतज़ार करूँगा। ऐसी बरसात की रात का फिर इंतज़ार करूँगा। और दुआ करूँगा कि तुम फिर से बिना रिजर्वेशन ट्रेन में चढ़ो और फिर से मेरी ही सीट पर बैठो।" उसकी ये नज़्म और वो छोटा सा पत्र पढ़कर मुझे मन ही मन में बहुत खुशी हुई और दुःख भी हुआ इस बात का कि काश इतनी बातों के बीच उसका नंबर ले लिया होता। मुझे आकाश से और आकाश की बारिश से कुछ-कुछ मोहब्बत होने लगी। 2 साल बीत गए बारिश से मोहब्बत बढ़ती जा रही है। 2 साल से उसी बरसात की एक रात का इंतज़ार है।

IG- poetry_by_heartt

my website

twitter

linkedin

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

गणतंत्र दिवस कविता

देश के प्रत्येक नागरिक को गणतंत्र दिवस की बधाई। गणतंत्र दिवस के उपलक्ष्य में मैं प्रस्तुत कर रही हूँ एक कविता-  जल रही थी चिंगारी जाने कितने बरसों से  कर रहे थे यत्न वीर जाने कितने अरसों से  आँखें क्रुद्ध, भीषण युद्ध, ब्रिटिश विरुद्ध जाने कितनी बार हुए.... माताओं की गोदी सूनी कर  जाने कितने बेटे संहार हुए  वीरों के बलिदानों से माँ भारती  बेड़ियाँ मुक्त हुई  फिर केसरिया-सफ़ेद-हरा लहरा  माँ भारती तिरंगा युक्त हुई  स्वतंत्र हुई, स्वराज्य मिला किंतु  स्वशासन अभी अधूरा था  जिसे 2 वर्ष, 11 माह 18 दिन में  अम्बेडकर जी ने किया पूरा था  फिर संविधान लागू कर लोकतंत्र का 'गुंजन' हुआ  आज इसी दिन गणराज्य बना आज ही गणतंत्र हुआ आज इसी दिन गणराज्य बना आज ही गणतंत्र हुआ    सभी को गणतंत्र दिवस की शुभकामनाएँ तथा सभी वीरों/ शहीदों को श्रद्धांजलि अन्य कविताएँ IG- poetry_by_heartt twitter

पत्र- औपचारिक तथा अनौपचारिक

औपचारिक पत्र  1. बुखार के कारण विद्यालय से 4 दिन के अवकाश के लिए अवकाश पत्र।  सेवा में  प्रधानाचार्या जी वेंकटेश्वर सिग्नेचर स्कूल रायपुर  छत्तीसगढ़  493441 25-08-2022 विषय- चार दिन के अवकाश हेतु।  आदरणीया महोदया, मेरा नाम नेहा शर्मा है। मैं कक्षा 3 में पढ़ती हूँ। मुझे कुछ दिनों से बुखार है। डॉक्टर ने मुझे आराम करने की सलाह दी है। जिसके लिए मुझे विद्यालय से अवकाश की आवश्यकता है।  मैं आपको आश्वासन देती हूँ कि मैं अवकाश के बाद शीघ्र ही अपना कार्य पूरा कर लूँगी।अतः मुझे 26 अगस्त 2022 से 29 अगस्त 2022 (चार दिन) का अवकाश देने की कृपा करें। आपकी अति कृपा होगी।  सधन्यवाद  आपकी छात्रा  नेहा शर्मा  कक्षा 3 अनौपचारिक पत्र  अपने भाई की शादी में बुलाने के लिए अपने मित्र को निमंत्रण पत्र  44/808 कमल विहार  नई दिल्ली  प्रिय मित्र,               कैसे हो? तथा घर में सब कैसे हैं? मैं सपरिवार कुशल से हूँ और आशा करता हूँ कि तुम भी सपरिवार सकुशल होंगे। मित्र अगले महीने की 25 तारीख को भैया का विवाह है। मैं चाहता हूँ इस उत्सव में तुम अपने परिवार के साथ सम्मिलित हो। तुम आओगे तो मुझे अच्छा लगेगा। हमारे अन्य म

भाईचारा। कविता।

भाईचारा  ऐसा सुंदर, ऐसा प्यारा देश हमारा हो  मिल जुल रहते हों सब, आपस में भाईचारा हो  अलग होते हुए भी सबमें  एकता की भावना समाई हो  जब नन्हे नंदू के घर दिवाली आए  तो भोले हामिद के घर भी मिठाई हो  मंदिर-मस्जिद-गिरजाघर-गुरुद्वारों ने  हमारा हर दिन, हर सवेरा सँवारा हो  मिल जुल रहते हों सब, आपस में भाईचारा हो  अगर कभी विद्यालय में छोटा चंदन  खाना लाना भूल जाता हो  अच्छी सुगंध, मीठे पकवानों वाला  दोस्तों का टिफ़िन पाता हो  हर छोटी-बड़ी चुनौतियों में  सुझाव कभी मेरा, कभी तुम्हारा हो  मिल जुल रहते हों सब, आपस में भाईचारा हो  बाज़ार से आते-आते कभी पापा  भारी झोला-टोकरी लाते हों  उनकी मदद करने को वहाँ  सब प्यारे बच्चे चले आते हों  रास्ते में देख प्यासा किसी को  पानी पिला खुशियों का खुलता पिटारा हो  मिल जुल रहते हों सब, आपस में भाईचारा हो  Instagram:gunjanrajput youtube:gunjanrajput pratilipi:gunjanrajput twitter:gunjanrajput

मेरी गूँज (गुंजन राजपूत)

  मेरी गूँज (उपन्यास/NOVEL) 'मेरी गूँज' एक ऐसा उपन्यास जिसे पढ़ने वाला लगभग हर व्यक्ति अपनी झलक देख सकता है।  For oder fill fill the link below मेरी गूँज (गुंजन राजपूत) Meri goonj written by Gunjan Rajput

अलंकार

 अलंकार की परिभाषा  अलंकार का शाब्दिक अर्थ होता है- आभूषण। जिस प्रकार किसी व्यक्ति की शोभा उसके धारण किए हुए आभूषणों से होती है उसी प्रकार किसी भी काव्य की शोभा काव्य द्वारा धारण किए हुए आभूषणों से होती है।  अर्थात् इसे दूसरे शब्दों में ऐसे समझ सकते हैं कि भाषा में पदों की तथा अर्थों की सुंदरता बढ़ाने वाले साधन को अलंकार कहते हैं। अथवा शब्दों अथवा अर्थों को अलंकृत करने वाली वस्तु अलंकार कहलाती है।  अलंकार के भेद  अलंकार के दो भेद होते हैं - (i) शब्दालंकार  (ii) अर्थालंकार  किंतु कुछ व्याकरण वेत्ताओं ने अलंकार  के तीन भेद माने हैं- (i) शब्दालंकार  (ii) अर्थालंकार  (iii) उभयालंकार शब्दालंकार - जिस अलंकार से शब्दों के माध्यम से काव्य पदों का सौंदर्य उत्पन्न होता है अथवा काव्य को पढ़ने तथा सुनने में चमत्कार होता है उसे शब्दालंकार कहते हैं। शब्दालंकार की पहचान करने में काव्य के अर्थ का महत्त्व नहीं होता।  शब्दालंकार के भेद-  शब्दालंकार के मुख्य रूप से 3 भेद होते हैं-  (i) अनुप्रास अलंकार  (ii) यमक अलंकार  (iii) श्लेष अलंकार  1- अनुप्रास अलंकार  जहाँ काव्य में वर्णों की आवृत्ति से चमत्कार उत

हम सभी किताबें हैं

हम सभी हैं किताबें किताबें, ढेरों पन्नों को खुद में संजोए हुए कुछ खुले पन्ने तो कुछ के बीज मन में बोए हुए हम हैं किताबें मगर पाठक भी हैं हममें हैं ढेरों किस्से, भिन्न लिखावट भी है कुछ पन्नों पर गहरी स्याही से लिखे हैं हमारे गम, हमारे डर, हमारी खामोशी की वजह कुछ पर स्याही उड़ने लगी है लेकर हमारी मुस्कुराहट और सुहानी सुबह कुछ खाली पन्ने लिए हम सभी इंतज़ार में हैं हमें पढ़कर समझ सके कोई उसके इश्तेहार में हैं कोई लेकर अपनी स्याही में खुशियों के रंग बिखेर दे कुछ पन्नों पर अपने पन्नों के संग हम सभी हैं किताबें हमें खुद को पढ़ना है, हर पन्ने पर अपनी मर्ज़ी का हर्फ़ लिखना है हम सभी हैं किताबें ये याद रखना है

धरती का बचाव

धरती का बचाव       धरती में भरा हुआ है रत्नों का खजाना     हमारा दायित्व है इस धरती को बचाना। I         फूल और पत्तों में कहीं सुगंध     तो कहीं औषधि मिलती है।     चोट लगने पर लेप मलने से     चेहरे पर मुस्कुराहट खिलती है।     सुंदर फूलों से हमें जीवन को है महकाना     हमारा दायित्व है इस धरती को बचाना।         नदियों की कलकल , झरनों की झर-झर     हमें मधुर ध्वनि सुनाते हैं।     सुबह-सवेरे पंछी आकर     यहाँ झीलों का पानी पी जाते हैं।     सींच-सींच कर किसान देखता है     धरती पर फसलों का लहलहाना     हमारा दायित्व है इस धरती को बचाना।         जाने कितने अपशिष्टों को धरती खुद में समाती है     गर्भ में बीज तपाकर सोने की किंकणियाँ लुटाती है     पर्यावरण हो सुरक्षित तो वर्षा समय पर आती - जाती है     कहीं न सूखा , कहीं न बाढ़ , प्रकृति सब समय पर लाती है     स्वराष्ट्र के साथ-साथ पूरा विश्व हमें है हरा बनाना     हमारा दायित्व है इस धरती को बचाना।    

हम आगे बढ़ते जाते हैं

पिछली कक्षा से लेकर सीख  फिर कुछ नया सीखने आते हैं  इतनी ख़ुशी, इतनी उमंग  खूब उत्साह दिखाते हैं  गिरते हैं - उठते हैं  हम आगे बढ़ते जाते हैं  हम आगे बढ़ते जाते हैं  अब नई कक्षा होगी, नए दोस्त बनाएँगे  कभी साथ खेलेंगे, तो कभी रूठ जाएँगे  कक्षा में चलो रोज़ नए करतब दिखाते हैं  गिरते हैं - उठते हैं  हम आगे बढ़ते जाते हैं  हम आगे बढ़ते जाते हैं  नई-नई किताबें, नई कॉपियाँ भी लाए हैं  हम रोज़ नए-नए प्रयास करने आये हैं  खुद सीखकर हम दोस्तों को भी सिखाते हैं  गिरते हैं - उठते हैं  हम आगे बढ़ते जाते हैं  हम आगे बढ़ते जाते हैं  नए सत्र की शुरुआत में हम सब एक वादा करेंगे  इस बार पिछली बार से पढ़ाई थोड़ी ज़्यादा करेंगे  एक दूसरे की मदद कर सबको साथ चलाते हैं  गिरते हैं - उठते हैं  हम आगे बढ़ते जाते हैं  हम आगे बढ़ते जाते हैं IG- poetry_by_heartt my website twitter linkedin

प्यारी पतंग कविता। मकर संक्रांति।

प्यारी पतंग  सुंदर-सुंदर, प्यारी-प्यारी  पतंग तुम्हारी, पतंग हमारी  अभी डोर बाँध इठलाएँगी  घूमेंगी गगन में न्यारी-न्यारी ध्यान देना कहीं कट न जाए  सब कर रहे काई पो चे की तैयारी  जब तक सुरक्षित उड़ रही  होगी सिर्फ तुम्हारी ज़िम्मेदारी 

कृष्ण जन्माष्टमी। Krishn janmashtami।

  शुभ  कृष्णाष्टमी/ कृष्ण जन्माष्टमी  जब रात्रि पर घने तिमिर का घेरा था जब सैनिक खड़े माँ देवकी के द्वारे थे जब वारि ले घन उमड़-उमड़ के आये तब भारत-मही में योगिराज कृष्ण पधारे थे जब पापियों का चहुँ ओर बोलबाला था रिश्तों को स्वार्थों के पलड़े तौला जाता था जब वासुदेव सात संतानों की रक्षा में हारे थे तब भारत-मही में आठवीं संतान कृष्ण पधारे थे जब द्वापर के अंत होने में कुछ समय बचा था जब धर्म को छिपा कर हर तरफ अधर्म रचा था जब कंस जरासंध के अत्यचारों से तंग बंधुजन हमारे थे तब इसी भारत-मही में योगिराज कृष्ण पधारे थे सभी को योगिराज श्री कृष्ण के जन्मोत्सव के पावन पर्व की अनेकों शुभकामनाएँ...शुभ कृष्ण जन्माष्टमी