सीधे मुख्य सामग्री पर जाएं

समस्या का समाधान आपको पता है

 कई बार ऐसा होता है जब हमें लगता है कि हम किसी समस्या में फँस गए हैं और हमें किसी की मदद चाहिए इस समस्या से बाहर निकलने के लिए। ये दूसरों से मदद माँगने की आदत, दूसरों से सलाह लेने की आदत कई बार हमारे अंदर इतनी लग जाती है कि हमें कोई वजह की भी आवश्यकता नहीं रह जाती किसी की सलाह लेने के लिए। हम फ़ालतू में, बिना किसी कारण के दूसरों से सलाह लेने लगते हैं। कई बार हम अपने हर कार्य को करने से पहले अपने आसपास के लोगों को ऐसे देखते हैं जैसे हमें उनसे उनकी अनुमति चाहिए अपने लिए कुछ करने के लिए। कई बार हमें खुद के लिए कुछ करने के लिए, चार लोगों के बीच खुद को खुश महसूस करने में ऐसा लगने लगता है जैसे हम कुछ गलत कर रहे हैं।

मज़े की बात तो ये है कि हम जिन्हें इतना, महत्त्व दे रहे होते हैं उन्हें इस बात का कोई आभास ही नहीं होता। वो इसे अपना गुण समझते हैं और अपने मूड के हिसाब से हमारे साथ बर्ताव करते हैं।


 

इस बात का एक बहुत ही आम सा उदाहरण ये भी है कि यदि हमें कहीं भी ऐसा कुछ पता चल जाए जैसे कि कोई इंसान है जो हमारे बारे में हमें बताएगा या कोई इंटरनेट पर वेबसाइट जो हमें हमारे बारे में बताती है; हम वहाँ उसके प्रति बहुत ही आकर्षित हो जाते हैं।


 

हर समस्या का समाधान हम अक्सर दूसरों से माँगते हैं इसका एक छोटा सा उपाय है कि हम अपने ईगो से काम लें। इंसान को कहीं न कहीं खुद को होशियार दिखाना बहुत पसंद होता है और इस आदत के चलते कई बार ऐसा होता है जब हमने किसी समस्या के बारे में सोचा भी नहीं होता उस समय अचानक से यदि कोई हमसे अपनी उस समस्या का हल माँगने तो हमारा दिमाग़ एक अलग तरह से काम करता है और हम तुरंत उसे कोई न कोई रास्ता या उपाय बता देते हैं।


 

ऐसा सिर्फ़ इसलिए हो पता है क्योंकि हमारे दिमाग़ को या हमें दूसरों को राय देने में अपनी जिस ज़िम्मेदारी का अहसास होता है उस ज़िम्मेदारी का अहसास हमें खुद की समस्याओं को सुलझाने में कई बार नहीं होता।

जब भी हमें किसी समस्या का समाधान चाहिए हो तो उस समय सबसे पहले उस समस्या को खुद को बोलो। मन में मत सोचो, जोर से बोलो और महसूस करो कि ये समस्या किसी और की है तो आप उसे क्या समाधान दोगे। आप देखेंगे कि आप समस्या के समाधान ढूँढने में ज़्यादा सक्रिय हो जाएँगे।


 

टिप्पणियाँ

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

गणतंत्र दिवस कविता

देश के प्रत्येक नागरिक को गणतंत्र दिवस की बधाई। गणतंत्र दिवस के उपलक्ष्य में मैं प्रस्तुत कर रही हूँ एक कविता-  जल रही थी चिंगारी जाने कितने बरसों से  कर रहे थे यत्न वीर जाने कितने अरसों से  आँखें क्रुद्ध, भीषण युद्ध, ब्रिटिश विरुद्ध जाने कितनी बार हुए.... माताओं की गोदी सूनी कर  जाने कितने बेटे संहार हुए  वीरों के बलिदानों से माँ भारती  बेड़ियाँ मुक्त हुई  फिर केसरिया-सफ़ेद-हरा लहरा  माँ भारती तिरंगा युक्त हुई  स्वतंत्र हुई, स्वराज्य मिला किंतु  स्वशासन अभी अधूरा था  जिसे 2 वर्ष, 11 माह 18 दिन में  अम्बेडकर जी ने किया पूरा था  फिर संविधान लागू कर लोकतंत्र का 'गुंजन' हुआ  आज इसी दिन गणराज्य बना आज ही गणतंत्र हुआ आज इसी दिन गणराज्य बना आज ही गणतंत्र हुआ    सभी को गणतंत्र दिवस की शुभकामनाएँ तथा सभी वीरों/ शहीदों को श्रद्धांजलि अन्य कविताएँ IG- poetry_by_heartt twitter

पत्र- औपचारिक तथा अनौपचारिक

औपचारिक पत्र  1. बुखार के कारण विद्यालय से 4 दिन के अवकाश के लिए अवकाश पत्र।  सेवा में  प्रधानाचार्या जी वेंकटेश्वर सिग्नेचर स्कूल रायपुर  छत्तीसगढ़  493441 25-08-2022 विषय- चार दिन के अवकाश हेतु।  आदरणीया महोदया, मेरा नाम नेहा शर्मा है। मैं कक्षा 3 में पढ़ती हूँ। मुझे कुछ दिनों से बुखार है। डॉक्टर ने मुझे आराम करने की सलाह दी है। जिसके लिए मुझे विद्यालय से अवकाश की आवश्यकता है।  मैं आपको आश्वासन देती हूँ कि मैं अवकाश के बाद शीघ्र ही अपना कार्य पूरा कर लूँगी।अतः मुझे 26 अगस्त 2022 से 29 अगस्त 2022 (चार दिन) का अवकाश देने की कृपा करें। आपकी अति कृपा होगी।  सधन्यवाद  आपकी छात्रा  नेहा शर्मा  कक्षा 3 अनौपचारिक पत्र  अपने भाई की शादी में बुलाने के लिए अपने मित्र को निमंत्रण पत्र  44/808 कमल विहार  नई दिल्ली  प्रिय मित्र,               कैसे हो? तथा घर में सब कैसे हैं? मैं सपरिवार कुशल से हूँ और आशा करता हूँ कि तुम भी सपरिवार सकुशल होंगे। मित्र अगले महीने की 25 तारीख को भैया का विवाह है। मैं चाहता हूँ इस उत्सव में तुम अपने परिवार के साथ सम्मिलित हो। तुम आओगे तो मुझे अच्छा लगेगा। हमारे अन्य म

भाईचारा। कविता।

भाईचारा  ऐसा सुंदर, ऐसा प्यारा देश हमारा हो  मिल जुल रहते हों सब, आपस में भाईचारा हो  अलग होते हुए भी सबमें  एकता की भावना समाई हो  जब नन्हे नंदू के घर दिवाली आए  तो भोले हामिद के घर भी मिठाई हो  मंदिर-मस्जिद-गिरजाघर-गुरुद्वारों ने  हमारा हर दिन, हर सवेरा सँवारा हो  मिल जुल रहते हों सब, आपस में भाईचारा हो  अगर कभी विद्यालय में छोटा चंदन  खाना लाना भूल जाता हो  अच्छी सुगंध, मीठे पकवानों वाला  दोस्तों का टिफ़िन पाता हो  हर छोटी-बड़ी चुनौतियों में  सुझाव कभी मेरा, कभी तुम्हारा हो  मिल जुल रहते हों सब, आपस में भाईचारा हो  बाज़ार से आते-आते कभी पापा  भारी झोला-टोकरी लाते हों  उनकी मदद करने को वहाँ  सब प्यारे बच्चे चले आते हों  रास्ते में देख प्यासा किसी को  पानी पिला खुशियों का खुलता पिटारा हो  मिल जुल रहते हों सब, आपस में भाईचारा हो  Instagram:gunjanrajput youtube:gunjanrajput pratilipi:gunjanrajput twitter:gunjanrajput